Anti Aging Therapy कही आपको मौत के मुँह ना ले जाएँ

हमारी खराब लाइफस्टाइल हमें बर्बादी की ओर ले जाकर हमें समय से पहले बूढ़ा बना रही है. हाल ही में एक पॉडकास्ट में ब्रेन सर्जन आलोक शर्मा ने यह बताया कि इंसान का उसकी उम्र को रोकना असंभव है लेकिन सेल्यूलर सेल द्वारा उम्र को कम करना संभव है. सेल्यूलर सेल हमारे शरीर के डैमेज सेल्स को दर्शाती है. सेल्यूलर सेल जितनी ज्यादा होगी उतना ही कैंसर और हार्ट डिसीज का खतरा भी ज्यादा होता है. कुछ विशेष बातों का ध्यान रखकर इन चीजों से बचा जा सकता है. 

सेल डैमेज से होती बीमारियाँ  

आदिकाल से मनुष्य बढ़ती उम्र को रोकने का प्रयास कर रहा है. वैज्ञानिकों ने भी इस पर काफी शोध किया है. वर्तमान में ही बियर बाइसेप्स के एक पॉडकास्ट में मशहूर ब्रेन सर्जन आलोक शर्मा ने बताया है कि इंसान कैसे लंबी उम्र जी सकता है. उन्होनें बताया कि हमारे DNA में एक कैप ऐसी होती है जिसे टीलोमियर कहा जाता है. उम्र बढ़ने के साथ-साथ यह छोटा होता जाता है. जितना छोटा यह होता है,उतनी ही हमारी सेल्यूलर  ऐज ज्यादा हो जाती है. सेल के बढ़ने से हार्ट,कैंसर और अल्जाइमर्स जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा रहता है.

६० वर्ष की उम्र में ८५ निकली सेल्यूलर ऐज 

डॉ आलोक ने बताया कि उन्होनें ६० वर्ष की उम्र में ब्लड टेस्ट के माध्यम से अपनी सेल्यूलर ऐज पता की,वे यह जानकर काफी हैरान हो गए कि मात्र ६० वर्ष की उम्र में उनकी सेल्यूलर एज ८५ साल थी. उन्होनें इसके तुरंत बाद एंटी एजिंग थेरीपी ली,जिसके बाद उनकी सेल्यूलर ऐज और उनकी Biological Age बराबर निकली. 

सेल डैमेज ऐसे रोकें

डॉक्टर ने बताया कि Oxygen की कमी से माइटोकांड्रिया और सेल डैमेज होने लगती है. शरीर में पर्याप्त ऑक्सीजन ना पहुँचने से सबसे ज्यादा बीमारियाँ होती है. स्पोर्ट्स मैन और कई लोग क्लीनिक में ऑक्सीजन थेरीपी लेते है. प्राणायाम और स्वच्छ हवा में रहने से भी ऑक्सीजन मेंटेन रहता है. हमें रोजाना कम से कम ३ लीटर पानी पीना चाहिए. हम प्यास लगने पर ही पानी पीते है तब तक हमारा शरीर डिहाइड्रेट हो चुका होता है. इसीलिए हमें पानी पीते रहना चाहिए. 

ब्लड सर्कुलेशन 

डॉक्टर आलोक शर्मा ने सलाह दी कि हमें एक्सरसाइज करते रहना चाहिए. इसके लिए जिम जाना जरूरी नहीं है. रोजाना ३० मिनट तक कोई भी एक्सरसाइज करना चाहिए जैसे कि डांस,स्वीमिंग और रनिंग. 

यह स्टेप भी फॉलो करे

डॉक्टर आलोक शर्मा सलाह देते है कि हमें दिन में कम से कम तीन बार ऐसी मील लेना चाहिए जो पका हुआ ना हो. इससे आपके शरीर में एंटी ऑक्सीडेंट की जरूरत पूरी हो जाती है. इसके लिए हमें ड्रायफ्रूट्स,हरी सब्जियाँ,फल और ग्रीन टी का सेवन कर सकते है. यह करने से आप एनर्जेटिक फील कर सकते है,जिससे आपकी लाइफ की क्वालिटी सुधरती है और आप गंभीर बीमारियों से भी बच सकते है.

Leave a Comment