Elon Musk और NASA मिलकर कर रहे है ब्रह्माण्ड के सबसे अमीर क्षुदग्रह पर मिशन की तैयारी

NASA 16 Psyche Mission 

Elon Musk की कंपनी और अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी NASA SpaceEx ब्रह्माण्ड के सबसे अमीर क्षुदग्रह पर यान भेजने की तैयारी कर रहे है. मंगल ग्रह और बृहस्पति ग्रह के बीच घूम रहे एक क्षुदग्रह 16 Psyche पर मिशन करने की तैयारी कर रहा है. वैज्ञानिकों का ऐसा अनुमान है कि इस क्षुदग्रह पर सोने,चाँदी,इस्पात और लोहे का खजाना हो सकता है. 

इस क्षुदग्रह पर इतना खजाना हो सकता है,जिससे इस विश्व का हर व्यक्ति अरबपति बन सकता है. हालांकि इस मिशन को पहले ही लॉन्च किया जाना था लेकिन अब इसे टालकर २१ अक्टूबर को लॉन्च करने का फैसला किया जाता है. 

विभिन्न धातुओं से बने इस क्षुदग्रह की खोज १८५२ में १६वें क्षुदग्रह के रूप में की गई थी. एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के अनुसार, जिस क्षुदग्रह पर नासा और एलन मस्क की कंपनी यान भेजने की तैयारी कर रहे है,इसकी खोज इतालियन खगोलशास्त्री एनीबेल डी गैसपारिस ने की थी. इस क्षुदग्रह का क्षेत्रफल १,६५,८०० किलोमीटर और इसका व्यास तकरीबन २२६ किलोमीटर हो सकता है. प्राचीन ग्रीक की पौराणिक कथाओं में प्रचलित आत्मा की देवी साइकी के नाम पर इसका नाम रखा गया है. यह नासा द्वारा खोजा गया १६वाँ स्टेरॉयड है इसीलिए इसका पूरा नाम 16 Psyche रखा गया है.

धरती पर मौजूद खजाने से कहीं अधिक संपदा यहाँ हो सकती है

धातु समृद्ध यह क्षुदग्रह इन दिनों काफी सुर्खियों को बंटोर रहा है क्योंकि वैज्ञानिकों ने ऐसा अनुमान लगाया है कि यदि इस क्षुदग्रह पर खनन किया जाएं, तो इसकी कीमत पृथ्वी पर मौजूद खजाने से कई अधिक हो सकती है. वैज्ञानिक कई अन्य कारणों से भी इस विषय में दिलचस्पी दिखा रहे है.

वैज्ञानिक यह भी जानना चाहते है कि हमारे सौर मंडल के शुरूआती युग में धरती पर क्या हो रहा होगा. यह स्टेरॉयड इस रहस्य से भी पर्दा उठा सकते है. पेंसिल्वेनिया के ब्लूम्सबर्ग विश्वविद्यालय के भूवैज्ञानिक माइकल शेपर्ड का यह कहना है कि,” सौर मंडल कैसे बना? इस स्टेरॉयड पर मिशन हमारी समझ को विकसित करने में एक अहम भूमिका निभा सकता है.”

NASA 16 Psyche Mission लॉन्चिंग कब है? 

हालांकि इस मिशन को पहले ही लॉन्च करना था लेकिन तकनीकी कारणों का हवाला देते हुए नासा से इसे कुछ समय के लिए टाल दिया था. नासा का कहना था कि कुछ टेस्टिंग बाकी रह गई है. १२ अक्टूबर को शाम ७ बजकर ૪६ मिनट पर यह मिशन को लॉन्च किया जाएंगा. ६ साल का लंबा सफर तय करने के बाद २०२९ में यह यान साइकी क्षुदग्रह पर पहुंचेगा.

Leave a Comment