Weight Loss के लिए क्या ओट्स है सहायक? | What is a Oats in Hindi

इन दिनों हर कोई अपने आपको स्वस्थ रखने के लिए संयमित डाइट प्लान कर रहा है. अपने डाईट चार्ट में हर कोई कुछ न कुछ बेहतर लेकिन स्वादिष्ट खाने की ओर ध्यान देता है. ऐसे में आजकल ओट्स को अपने डाईट में शामिल किया जा रहा है. आइएँ हम जानते है कि क्या ओट्स हमारे लिए बेस्ट डाईट ऑप्शन है या नहीं ?

ओट्स
ओट्स का सबसे ज्यादा प्रयोग यूरोप और अमेरिका में किया जाता है. कई सदियों से इन देशों में ओट्स का उपयोग किया जा रहा है. यूरोप और अमेरिका का मुख्य आहार ही ओट्स को माना जाता है.कई दशकों से इन क्षेत्रों में ओट्स की खेती की जा रही है. मार्केट में आज कई तरह के ओट्स उपलब्ध है जैसे कि मसाला ओट्स,ड्राईफ्रुट ओट्स एवं इन्सेंटेंट ओट्स इत्यादि.,लेकिन यह सब Processed Oats होते है. प्राकृतिक रूप से मिलने वाले ओट्स की खेती की जाती है. ओट्स गेहूँ के दानों की तरह ही दिखता है और इसे फैक्टरी में ले जाकर इसको प्रोसेसिंग किया जाता यूहै,जिससे Rolled Oats बनाया जाता है.

क्या ओट्स सच में स्वास्थ्यवर्धक है ?
यूरोप और अमेरिका जैसे देशों में अनाज के तौर पर गेहूँ,मक्का और ओट्स की खेती होती है,जबकि भारत में गेहूँ,चावल,मक्का,बाजरा,ज्वार और जौं जैसे अनाज की खेती होती है. यूरोपीय लोगों को खाद्यान्न के लिए ओट्स पर निर्भर होना पड़ता है. ओट्स एक ऐसा अन्न है जो दिन भर की मेहनत करने के बाद शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है. यदि बात की जाएँ ओट्स स्वास्थ्यवर्धक है या नहीं तो बता दे कि रिसर्च के अनुसार ओट्स यूरोपीय और अमेरिकी लोगों के स्वास्थ्य के लिए इसीलिए स्वास्थ्यवर्धक है क्योंकि यह ग्लूटन फ्री होता है. इन रिसर्चों में ओट्स को मैदे से बेहतर इसीलिए बताया गया है क्योंकि मैदे में ग्लूटन पाया जाता है. भारत में हमारे पास गेहूँ,चावल,बाजरा,ज्वार और मक्का जैसे ऑप्शन्स हमारे पास मौजूद है,जो हमारे लिए बहुत स्वास्थ्यवर्धक होते है. इसीलिए इस निष्कर्ष पर पहुँचा जा सकता है कि हम भारतीयों के लिए ओट्स के मुकाबले हमारे भारतीय खाद्यान्न जैसे गेहूँ,चावल,बाजरा और मक्का ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक होते है.

Leave a Comment